कैसे पहुँचें

चण्डी मन्दिर जाने के लिए आज विशाल पुल है जो हरिद्वार-नजीवाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर है, यहाँ से इस मन्दिर के लिए दो परम्परागत पैदल मार्ग हैं। एक मार्ग वर्तमान रोपवे से आधा किलोमीटर आगे गौरीशंकर महादेव मन्दिर होकर जाता है और दूसरा रोपवे से पहले उज्जैनी यानि अंजनि घाट से गंगा पार काली मन्दिर होकर।यही मार्ग ज्यादा सुविधाजनक और शास्त्र सम्मत भी है। मन्दिर प्रदक्षिणा-दर्शन बांयी ओर से प्रवेश कर दांयी ओर से वापसी अधिक उत्तम माना जाता है। इसलिए इसी पैदल मार्ग से अधिकत्तर श्रद्धालु माँ चण्डी दर्शन को जाते हैं। अब तो पुल से कुछ ही दूरी के बाद रोपवे (उड़न खटोले) की सेवा भी उपलब्ध है। वृद्ध व असक्तजनों से लेकर महिलाओं व बच्चों के लिए यह बेहद सुविधाजनक है।